(रजिस्ट्रेशन) दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना: Pandit Dindayal Yojana Apply

दीन दयाल उपाध्याय योजना Apply | दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना रजिस्ट्रेशन | pandit deendayal upadhyay swarojgar yojana form |

Pandit Dindayal Yojana 

सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं को उनकी मनपसंद कौशल में ट्रेनिंग देने का प्रावधान रखा है। प्रशिक्षण के पूरा हो जाने पर जब वह अपने काम में निपुण हो जाते हैं तो Pandit Dindayal Yojana के माध्यम से उन्हें रोजगार मुहैया कराया जाता है। साथ ही प्रशिक्षण पूर्ण होने का उनको एक प्रमाण पत्र भी सरकार प्रदान करती है। जिससे वह अन्य क्षेत्रों में भी रोजगार प्राप्त कर सकें। इस योजना का उद्देश्य यह है कि ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगार युवाओं को रोजगार देकर आर्थिक सहायता प्रदान करना है और अपने देश की भी आर्थिक हालत को सुधारना है।

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना रोजगार के तहत सह मार्गदर्शन मेला

ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार की बहुत ही कम अवसर होते हैं इसको देखते हुए केंद्र सरकार ने बेरोजगार युवाओं के लिए कौशल प्रशिक्षण के कई केंद्र बनाए हैं। इसके माध्यम से युवा ट्रेनिंग लेकर नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। Pandit Dindayal Yojana के अंतर्गत आप बेरोजगार युवाओं की योग्यता वा हुनर की पहचान की जाती है। उसी के माध्यम से उन्हें मार्गदर्शन प्रदान किया जाता है और प्रशिक्षण भी दिया जाता है। इसी के तहत सरकार ने एक मेले का आयोजन किया गया है जिसे सह मार्गदर्शन मेला नाम दिया गया है। सरकार ने इस मेले के उद्घाटन के साथ जीविका समूह की महिलाओं के कार्य की भी सहारना की है।

  • डीडीयू-जीकेवाई के तहत चलाए जाने वाले मेले के माध्यम से जीविका समूह की महिलाओं के द्वारा क्षेत्र के युवाओं को उनके हुनर किया हिसाब से रोजगार के लिए मार्गदर्शन प्रदान किया गया।
  • बिहार ग्रामीण जीवकोपार्जन प्रोत्साहन समिति ने इस मेले में सभी बेरोजगार नागरिकों का रजिस्ट्रेशन करवाया साथ ही राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के बैनर के तहत यह पंजीकरण दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के माध्यम से किया जाएगा।
  • रजिस्ट्रेशन के बाद जिन भी युवाओं का चयन होगा उन्हें सरकार मुफ्त में ट्रेनिंग देगी। निशुल्क प्रशिक्षण के कारण काफी बेरोजगार युवा इसमें हिस्सा लेंगे और उन्हें रोजगार के अनेकों अवसर मिल पाएंगे।
  • यदि आप सरकार द्वारा चलाई गई इस महत्वकांक्षी योजना का फायदा लेना चाहते हैं तो आपको इसके लिए पंजीकरण करना अनिवार्य होगा।

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना का मूल्यांकन

सरकार ने इस योजना के मूल्यांकन का उद्देश्य यह रखा है कि इससे ग्रामीण वह गरीब बेरोजगार युवाओं को कितना फायदा मिल रहा है। या प्लेसमेंट का प्रदर्शन कैसा रहा है। सरकार दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के अंतर्गत युवाओं को मिलने वाले फायदे और उस के माध्यम से मिलने वाला प्लेसमेंट का अक्सर मूल्यांकन करती रहती है इसका उद्देश्य यह है कि भविष्य में इस योजना में क्या क्या बदलाव किए जा सकते हैं जिससे बेरोजगार नागरिकों को रोजगार आसानी से प्राप्त हो सके।  Pandit Dindayal Yojana में प्रशिक्षण लेने के पश्चात कार्यान्वयन एजेंसी लोगों को प्लेसमेंट देती है। साथ ही सरकार नहीं आ पाया कि इस योजना के तहत प्लेसमेंट का प्रदर्शन बहुत ही खराब है।

  • सरकार द्वारा 2015 से 2019 तक का मूल्यांकन किया गया।
  • कर्नाटका इवैल्यूएशन अथॉरिटी को इस मूल्यांकन की जिम्मेदारी दी गई।
  • अथॉरिटी ने मूल्यांकन में यह देखा कि 5 सालों में प्लेसमेंट की दर बहुत ही कम लगभग 36% रही है।
  • जो कि योजना के दिशा निर्देश और नेशनल प्लेसमेंट रेट से बहुत ही कम है।
  • साथिया पाया गया कि इस योजना का फायदा ज्यादातर ग्रेजुएट युवाओं को मिल रहा है।
  • एबलेशन अथॉरिटी ने लगभग 25 सौ लोगों पर यह सर्वेक्षण किया।
  • इसमें ज्यादातर ग्रेजुएट से।
  • कमेटी ने यह बताया कि इस योजना का फायदा ज्यादातर शिक्षित बेरोजगार युवा ले पा रहे हैं।
  • साथिया पाया गया कि इसके द्वारा जो प्लेसमेंट किया गया है उसमें ज्यादातर लाभार्थी युवाओं ने वेतन के कम होने के कारण व अन्य परेशानियों कारण इस्तीफा दे दिया।
  • Pandit Dindayal Yojana के तहत औसदान मासिक वेतन 8136.45 रुपए है।

Key points Of Pandit Dindayal Yojana 

लेखदीनदयाल उपाध्याय कौशल्य ग्रामीण योजना
शुरू किया गयाग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार
योजना की आरंभ तिथि25 सितंबर सन 2014
योजना की अंतिम तिथिजारी है
उद्देश्यग्रामीण बेरोजगार युवाओं को    रोजगार  उपलब्ध कराना
ऑफिशियल वेबसाइटhttp://ddugky.gov.in/hi/apply-now

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना प्रशिक्षण कार्यक्रम

त्रिफला के तहत दिसंबर 2020 से युवाओं को ट्रेनिंग देना शुरू कर दिया गया है। इस योजना के अंतर्गत ट्रिडेंट ग्रुप उन्होंने में 1500 उम्मीदवारों को ट्रेनिंग देना प्रारंभ किया है। साथ ही इस योजना के माध्यम से समुदाय व जागरूकता और प्रशिक्षण में रुचि रखने वाले ग्रामीण युवाओं की पहचान करके उनको प्रशिक्षण में लगाना है। साथी प्रशिक्षण के लिए जो भी युवा आगे आएंगे उनको इस दौरान भोजन, कपड़े आवाज की सेवा भी प्राप्त होगी। विभाग में छात्रों के लिए हॉस्टल भी आवंटित किए हैं जिससे वह अपना प्रशिक्षण ले सकें। इस दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के तहत सिलाई मशीन ऑपरेटर और इनलाइन गारमेंट चेक कर को भी प्रशिक्षण मिल पाएगा। Pandit Dindayal Yojanaके माध्यम से युवाओं के प्रशिक्षण में क्या रियल में प्रगति आएगी।

हिमायत फ्री प्लेसमेंट लिंक स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम

जम्मू कश्मीर के क्षेत्रीय युवा उम्मीदवारों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए एक विशेष उप योजना का आरंभ किया गया है जिसे की हिमायत श्री प्लेसमेंट लिंक स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम नाम दिया गया है। यह प्रोग्राम ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा चलाया जा रहा है इसमें शहरी और ग्रामीण युवाओं को रखा गया है। इस प्रोग्राम को दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के तहत चलाया जा रहा है। इस योजना में जम्मू कश्मीर के छात्र जिन्होंने अपनी पढ़ाई बीच में छोड़ दी है उन्हें कौशल प्रशिक्षण दिया जाएगा। साथ ही हिमायत फ्री प्लेसमेंट लिंक स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम के तहत प्रशिक्षण लेने वाले छात्रों को यात्रा भत्ता व अन्य सामग्री के लिए भी भत्ता प्रदान किया जाएगा। इसमें बीपीएल और एपीएल दोनों तरह के छात्रों को शामिल किया गया है।

  • ग्रामीण विकास मंत्रालय ने इस योजना के माध्यम से जम्मू कश्मीर के बेरोजगार युवाओं को अपनी आजीविका के लिए हुआ गरीबी को कम करने के लिए अंग्रेजी भाषा, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी स्केल या सॉफ्ट स्कूल प्रशिक्षण देकर प्लेसमेंट करने का प्लान बनाया है।
  • हिमायत मिशन मैनेजमेंट यूनिट ने इस योजना को चलाते हुए यह का है कि यह बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है और उस के माध्यम से प्रदेश के छात्र आत्मनिर्भर हो पाएंगे और इस तरह की योजना पूरे भारतवर्ष में लागू होनी चाहिए।

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना का मुख्य उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य है कि गरीब परिवारों को नियमित रूप से मधुमेह के माध्यम से लाभकारी वाजपेई रोजगार प्रदान करना है। इसके साथ ही राज्य में गरीबों के आर्थिक विकास को मजबूत करके उनकी कार्य क्षमता को विकसित करके रोजगार के अवसर प्रदान करना है। देश में ग्रामीण गरीबों को प्रशिक्षण प्रदान करके उन्हें भारतीय और वैश्विक नियोक्ताओं के माध्यम से रोजगार प्रदान करना है।

दीनदयाल उपाध्याय योजना के लाभ

दीन दयाल उपाध्याय कौशल्या योजना से होने वाले लाभ इस प्रकार है

  • Pandit Dindayal Yojana के माध्यम से युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे उनके कैरियर में प्रगति होगी।
  • ग्रामीण इलाकों में रोजगार के लिए जो शहरों की तरफ पलायन होगा उसमें इस योजना के कारण कमी आएगी।
  • गरीब ग्रामीण बेरोजगार युवाओं की पहचान की जाएगी।
  • दीनदयाल उपाध्याय योजना के अंतर्गत बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें प्रमाण पत्र दिया जाएगा जो कि पूरे देश में माना जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से रोजगार के अवसर को बढ़ाने के लिए, ज्ञान उद्योग से जुड़े कौशल और मनो दृष्टि प्रदान किया जाएगा।
  •  इस योजना में योग्यता के आधार पर चयन करके उनका प्लेसमेंट किया जाएगा।
  • युवाओं को ऐसी नौकरियां प्रदान की जाएगी जिनका सत्यापन स्वतंत्र जांच करने के तरीकों से किया जा सके और न्यूनतम मजदूरी से ज्यादा भुगतान करती हो।

Pandit Dindayal Yojana में कौन से कदम शामिल हैं

  • इस योजना के माध्यम से सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के लिए युवाओं को प्रोत्साहित कर रही है।
  • रोजगार के अनुसार युवाओं का चयन किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से रोशनी नाम की परियोजना को आदिवासी क्षेत्रों और वामपंथी उग्रवाद वाले जिलों के लिए भी बनाया गया है।
  • योग्यता के अनुसार रोजगार प्रदान करके न्यूनतम मजदूरी से ज्यादा भुगतान प्रदान करना है।
  • प्रशिक्षण के बाद विभाग युवाओं को यात्रा भत्ता भी प्रदान करेगा।
  • इस योजना के माध्यम से गरीब हुआ और उनके माता-पिता की भी काउंसलिंग होगी।

dindayal upadhyay gramin koshalya yojana के महत्वपूर्ण कागजात

यदि आप इस योजना मैं आवेदन करना चाहते हैं तो आपको कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी, इसलिए दीनदयाल उपाध्याय कौशल योजना के लिए जरूरी कागजों की जानकारी निम्न है दी है।

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का वोटर आईडी कार्ड
  • आयु प्रमाण पत्र के लिए कोई दस्तावेज या प्रमाण पत्र
  • पारिवारिक आय प्रमाण पत्र
  • स्थाई निवासी प्रमाण पत्र
  • आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो

योजना के लिए आवेदक की उम्र की सीमा 18 से 25 वर्ष रखी गई है। 25 वर्ष से ज्यादा आई के आवेदक इसका फायदा नहीं उठा पाएंगे और साथ ही या योजना विशेषता ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं के लिए बनाई गई है और इन्हीं युवाओं को इसका फायदा मिल पाएगा।

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें

यदि आप दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना का ऑनलाइन आवेदन करने के इच्छुक हैं तो आपको नीचे दिए गए चरणबद्ध तरीके का पालन करना पड़ेगा:-

  • इस प्रक्रिया में सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा |
  • वेबसाइट का मुख्य पृष्ठ खुल जाएगा।
  • आपको यही वेबसाइट किए मुख्य पृष्ठ पर न्यू रजिस्ट्रेशन का विकल्प दिखेगा अब इसमें क्लिक करें।
  • क्लिक करते ही वेबसाइट के नए पेज में एक आवेदन फॉर्म खुलेगा। यहां इस आवेदन पत्र पर आपको अपना मोबाइल नंबर दर्ज करने का विकल्प दिखेगा यहां आपको अपना रजिस्ट्रेशन मोबाइल नंबर लिखना है।
  • आप इस फॉर्म पर आपको पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारियां दर्ज करनी है।
  • सभी जानकारियों को दर्ज करने के पश्चात आपसे दस्तावेजों का विवरण पूछा जाएगा।
  • अब आपको सारे दस्तावेजों की स्कैन कॉपी को यहां ऑनलाइन अपलोड करना होगा।
  • अपलोड करते ही सबमिट के बटन पर क्लिक करके आप का पंजीकरण आवेदन पूरा हो जाएगा।

पाठकों इस तरह से आप दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना में अपना पंजीकरण सफलतापूर्वक आसानी से कर सकते हैं। पंजीकरण करने के पश्चात आपको s.m.s. के माध्यम से सूचनाएं प्राप्त होती रहेंगी जैसे कि ट्रेनिंग सेंटर कहां है और क्या ट्रेनिंग दी जाएगी।

संपर्क करें

Office Address:

Rural Skills Division, Ministry of Rural Development, 7th Floor, NDCC-II Building,
Jai Singh Road, New Delhi-110001 Office Time: 9:30 A.M. – 5:30 P.M. [Monday to Friday Except Gazetted Holiday]

Web Information Manager:
Shri Saurabh Kumar Dubey Designation: Director (RS/RL)
Email Id: skumar.dubey@nic.in

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top